God’s Workship: पूजा के दौरान कौन-सी अगरबत्ती जलाने से मिलती है भगवान की विशेष कृपा, जानिए

God's Workship
Image Credit:- thevocalnewshindi
Last updated:

God’s Workship: हिंदू धर्म की पूजा पाठ में विभिन्न प्रकार की सामग्रियों का प्रयोग किया जाता है. जिनमें अगरबत्ती तथा धूपबत्ती विशेष रूप से शामिल हैं. बाजार में कई तरह की अगरबत्ती के प्रोडक्ट मिलते हैं. जो कि लोगों द्वारा काफी पसंद किए जाते हैं.

ये भी पढ़े:- सनातन धर्म में ईश्वर की प्रार्थना का महत्व

अगरबत्ती के इन प्रकारों में अधिकतर चंदन, गूगल गुलाब, केवड़ा और चमेली के खुशबू वाली अगरबत्ती ज्यादा मांग में रहती है. लेकिन पूजा पाठ में इनमें से कौनसी अगरबत्ती जलाना अधिक शुभ मानी जाती है, यह जानकारी आज हम आपको देने वाले हैं.

Vastu tips for Goddess laxmi

गूगल की धूप गुरुवार को जलाने से मिलते हैं कई तरह के लाभ

गुरुवार के दिन गूगल की धूप जलाने से कई तरह के लाभ होते हैं. इन लाभों में मस्तिष्क का दर्द और अन्य संबंधित रोगों का नाश होता है. गूगल की सुगंध आपके हृदय संबंधित कष्टों में भी लाभप्रद होती है. इसकी सुगंध घर में सकारात्मक माहौल बनाए रखती है. माना जाता है कि इस धूप की खुशबू से दिव्य शक्तियां आकर्षित होती हैं.

Vastu For Wednesday

चंदन की धूप वातावरण को बनाती है पवित्र

माना जाता है कि जिस घर में चंदन प्रतिदिन घीसा जाता है वहां का वातावरण हमेशा पवित्र और सुखदायक रहता है. दरअसल चंदन भी कई प्रकार का होता है जैसे हरी चंदन, गोपी चंदन, सफेद चंदन, लाल चंदन, गोकुल चंदन. चंदन के यह प्रकार अलग-अलग देवी-देवताओं को काफी पसंद होते हैं. माना जाता है कि जहां पर चंदन की खुशबू बनी रहती है वहां पर पितृदोष, काल सर्प दोष, वास्तु दोष और घर में कलह नहीं होता है.

ganga

षोडशांग धूप का अपना अलग है महत्व

चंदन की अपनी काफी महत्वता है. पूजा पाठ के अतिरिक्त तंत्र सार में भी धूप को काफी महत्वपूर्ण माना गया है. इसके अनुसार अगर, तगर, शंकरा नागरमाथा, चंदन, तज, जटामांसी, कर्पूर, ताली, गूगल, शैलज, इलाइची आदि 16 प्रकार की धूप माने जाते हैं जिन्हें षोडशांग धूप कहा जाता है.

इस धूप का अपना एक महत्व है क्योंकि इसमें कई प्रकार के गुण मौजूद हैं. इस प्रकार हम कह सकते हैं कि चंदन की धूप आप प्रतिदिन घर या मंदिर में लगा सकते हैं लेकिन गूगल की धूप गुरुवार के दिन लगाना ज्यादा शुभ अथवा फायदेमंद माना जाता है.