comscore
Thursday, December 1, 2022
- विज्ञापन -

Today shlok: श्रीमद्भगवत गीता का ये श्लोक, भर देगा आपके जीवन में नई उमंग और उत्साह…श्रद्धापूर्वक कीजिए गान

Published Date:

Today shlok: प्रत्येक सुबह हम आपके लिए श्रीमद्भागवत गीता का एक श्लोक लेकर आते हैं. जिसे पढ़कर आप अपने दिन की शुरुआत करते हैं.

श्रीमदभागवत गीता का महत्व धार्मिक और वैज्ञानिक दृष्टि से देखने को मिलता है. इसकी उत्पत्ति तब हुई थी, जब महाभारत काल में श्री कृष्ण ने अर्जुन को गीता का ज्ञान दिया था.

गीता का पाठ करने या सार समझने के पश्चात ये निश्चित है कि व्यक्ति सदैव के लिए मोह माया के बंधन से छुटकारा पा लेता है.

साथ ही उसको प्रतिदिन गीता का अध्ययन करने से व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है. ऐसे में आज हम आपके लिए गीता के दूसरे अध्याय का 47वां श्लोक लेकर आए हैं.

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन।
मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोऽस्त्वकर्मणि॥

अर्थ- कर्म पर ही तुम्हारा अधिकार है, कर्म के फलों में कभी नहीं. इसलिए कर्म को फल के लिए मत करो. कर्म करने में ही तेरा अधिकार है, फलों में कभी नहीं. अतः तू कर्मफल का हेतु भी मत बन और तेरी अकर्मण्यता में भी आसक्ति न हो.

इस प्रकार, प्रतिदिन गीता के श्लोक या आज का श्लोक पढ़ने के बाद आप अपनी ज्ञानेंद्रियों को नियंत्रित रख सकते हो, साथ ही दुनिया के मायाजाल से परे अपने जीवन को उद्देश्यपूर्ण बना सकते हो.

Anshika Johari
Anshika Joharihttps://hindi.thevocalnews.com/
अंशिका जौहरी The Vocal News Hindi में बतौर Sub-Editor कार्यरत हैं. उनकी रुचि विशेषकर धर्म आधारित विषयों में है, और इस विषय पर वह काफी समय से लिखती आ रही हैं. उन्होंने अपनी जर्नलिज्म की पढ़ाई इन्वर्टिस यूनिवर्सिटी, बरेली से की है.
- विज्ञापन -

ताजा खबरें

अन्य सम्बंधित खबरें

VNIT Recruitment 2022: मौका ही मौका! एनआईटी कर रही ग्रेजुएट लोगों को भर्ती, जानें कैसे करें आवेदन

​VNIT Recruitment 2022: विश्वेश्वरैया राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान नागपुर ने एक...

Lamborghini Huracan Sterrato उबड़-खाबड़ रोड पर उड़ाएगी गर्दा! रफ़्तार के मामले में है सबकी बॉस, जानें डिटेल्स

नई लेम्बोर्गिनी हुराकैन स्टेरटो की शुरुआत पर टिप्पणी करते...