आज रात पृथ्वी के नज़दीक से गुजरेगा फुटबॉल मैदान से तीन गुना बड़ा ‘एस्टेरॉयड’, जानें क्या होगा खतरा!

Image credit: pixabay

अमेरिकी स्पेस एजेंसी NASA ने कहा है कि ताजमहल से तीन गुना आकार का क्षुद्रग्रह (Asteroid) पृथ्वी (Earth) के करीब से गुजरेगा. रविवार देर रात ये पृथ्वी के सबसे करीब पहुंच जाएगा. धरती के नजदीक वाले इस पिंड का नाम 2008 GO20 दिया गया है. यह 8.2 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से धरती की तरफ आ रहा है. हालांकि यह हमारे ग्रह से लगभग 30 से 40 लाख किलोमीटर दूर होगा. इस एस्ट्रॉइड की चौड़ाई 97 मीटर और लंबाई 230 मीटर है, जो चार फुटबॉल मैदान के लगभग बराबर है.

नैनीताल स्थित आर्यभट्ट प्रेक्षण विज्ञान शोध संस्थान के पब्लिक आउटरीच प्रभारी डॉ. वीरेंद्र यादव के अनुसार पृथ्वी के पास से हर साल छोटे एस्टोरॉयड गुजरते हैं. इस साल भी करीब 92 एस्टोरॉयड पृथ्वी के निकट से गुजर चुके हैं. पर 2008 जीओ 20 नाम का यह एस्टेरॉयड करीब दो सौ मीटर लंबा है. इस साल तीन बड़े आकार के एस्टेरॉयड धरती के करीब से गुजरेंगे.

पृथ्वी से नहीं टकराएगा

ओडिशा के भुवनेश्वर में पठानी सामंत तारामंडल के उप निदेशक डॉ सुभेंदु पटनायक ने कहा है कि चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि 2008 GO20 के पृथ्वी से टकराने की कोई संभावना नहीं है. पटनायक ने एएनआई को बताया कि हमें घबराना नहीं चाहिए. हम सुरक्षित रूप से कह सकते हैं कि यह पृथ्वी से नहीं टकराएगा.

उन्होंने कहा, ये क्षुद्रग्रह 1935 और 1977 में क्रमशः 19 लाख किमी और 29 लाख किमी की दूरी पर पृथ्वी के पास से गुजर चुका है. उस समय से ये उड़ता हुआ चला गया और फिर पृथ्वी की ओर नहीं आया. इस बार इसकी दूरी लगभग 45 लाख किमी है, जो पृथ्वी-चंद्रमा की दूरी से लगभग 11 से 12 गुना अधिक है, इसलिए इसके पृथ्वी से टकराने का कोई खतरा नहीं है.

यह होते हैं एस्टेरॉयड

एस्टेरॉयड वह चट्टानें होती हैं, जो किसी ग्रह की तरह ही सूरज के चक्कर काटती हैं. लेकिन ये आकार में ग्रहों से काफी छोटी होती हैं. गैस और धूल के ऐसे बादल जो किसी ग्रह का आकार नहीं ले पाए और पीछे छूट गए, वही इन चट्टानों यानी एस्टेरॉयड में तब्दील हो गए. यही वजह है कि इनका आकार भी ग्रहों की तरह गोल नहीं होता. कोई भी दो एस्टेरॉयड एक जैसे नहीं होते हैं.

ये भी पढ़ें: Nasa के हबल स्पेस टेलीस्कोप ने दो अनजान गैलेक्सी को ढूँढा

SHARE