गेल ने एकबार फिर साबित किया क्यूँ हैं वह टी-20 क्रिकेट के महान खिलाड़ी, दर्ज की ये बड़ी उपलब्धि

कहते हैं कि शेर कितना भी बुढा हो जाए, वह शिकार करना नहीं भूलता. टी-20 स्पेशलिस्ट कैरिबियाई दिग्गज क्रिस गेल (Chris Gayle) ने एकबार फिर साबित कर दिया कि खेल में उम्र मायने नहीं रखती. बल्कि, वो क्लास मायने रखता है जो एक खिलाड़ी अपने साथ लेकर चलता है. फॉर्म बेशक आती-जाती रहती है, लेकिन अनुभव और क्लास एक ऐसी चीज है जो कभी नहीं मरती.

42 वर्षीय गेल ने अपने खेल से एक बार फिर सबको ये याद दिला दिया कि क्यूँ उन्हें यूनिवर्स बॉस कहा जाता है. उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे टी-20 मैच में अपनी तूफानी झलक दिखाई जिसे लोग बहुत दिनों से भूल चुके थे. सेंट लूसिया में हुए तीसरे T20 में यूनिवर्स बॉस ने अपने आक्रामक अंदाज से रन बरसाए और नए रिकॉर्ड स्थापित किए.

तीसरे टी-20 में गरजा गेल का बल्ला

गेल ने तीसरे T20 में ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाजों की जमकर कुटाई करते हुए 38 गेंदों पर 67 रन बनाए, जिसमें छक्के 7 और चौके सिर्फ 4 शामिल रहे. टी-20 स्पेशलिस्ट ने अपने टी-20 करियर में 14 हजार टी20 रन भी पूरे कर लिए. ऐसा कारनामा करने वाले वह पहले बल्लेबाज बने.

यूनिवर्स बॉस ने प्रमुख गेंदबाज जोश हेजलवुड के दूसरे ओवर में गेल ने 18 रन जड़ डाले. उस ओवर में गेल ने 1 छक्के और तीन चौके ठोंके. वही लेग स्पिनर एडाम जाम्पा के एक ही ओवर में लगातार 3 छक्‍के जड़कर 33 गेंदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया. 2016 के बाद से इंटरनेशनल टी20 क्रिकेट में यह उनका पहला पचासा है. उन्‍होंने पिछला अर्धशतक टी20 वर्ल्‍ड कप में जड़ा था.

इसके अलावा गेल तीसरे ऐसे खिलाड़ी बने जिसने 40 साल की उम्र होने पर भी 1000 T20 रन पूरे किए हैं. वो T20 इंटरनेशनल में अर्धशतक जमाने वाले सबसे उम्रदराज क्रिकेटर भी बने.

ये भी पढ़े: कैरिबियाई टीम ने लगाई जीत की हैट्रिक, सीरीज पर किया 3-0 से कब्जा