धोनी के फैंस के लिए अच्छी खबर, अभी 1-2 साल और खेलेंगे आईपीएल

चेन्नई सुपर किंग्स और महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) के फैंस के लिए खुशखबरी है. फ्रेंचाइजी की तरफ से धोनी के आईपीएल करियर को लेकर बड़ा बयान आया है. CSK के सीईओ (CEO) काशी विश्वनाथन ने कहा है कि धोनी अभी 1-2 साल और आईपीएल में खेलेंगे.

बीते बुधवार को 40 साल के हुए एमएसडी (MSD) आईपीएल से इतनी जल्दी संन्यास नहीं लेंगे. बता दें कि धोनी को लेकर कयास लगाए जा रहे थे कि वह 2021 के ipl सीजन के बाद इस लीग से भी अलविदा कह देंगे. लेकिन, चेन्नई के CEO के दिए यह बयान के बाद अब माही के फैंस ने राहत की साँस ली होगी.

गौरतलब है कि 2022 के आईपीएल सीजन से पहले बड़ी नीलामी आयोजित होगी. अगले सीजन में दो नई टीमों को जोड़ा जाएगा. वही बड़ी नीलामी से पहले सभी फ्रेंचाइजी अपने टीम से अधिकतम 4 खिलाड़ियों को रिटेन कर पाएँगे. ऐसे में यदि धोनी आगे खेलना जारी रखते हैं तो यह देखना मजेदार रहेगा कि क्या वह रिटेन किए जाते हैं या उन्हें ऑक्शन में CSK वापस शामिल करेगी.

धोनी के क्रिकेट छोड़ने का कोई कारण नहीं: विश्वनाथन

आईपीएल में धोनी के भविष्य पर किए सवाल का विश्वनाथन ने जवाब दिया. स्पोर्ट्सकीड़ा से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि “धोनी अभी चेन्नई टीम के लिए एक या दो साल और खेल सकते हैं. वे पूरी तरह फिट हैं और अभ्यास भी बहुत ज्यादा करते हैं. उनके क्रिकेट छोड़ने का मुझे कोई कारण नजर नहीं आ रहा है. वे टीम के लिए जो भी कर रहे हैं, उससे हम खुश हैं. बतौर खिलाड़ी वे हमारे लिए बहुत कीमती हैं. वे एक शानदार फिनिशर हैं और उनका खेल हमारे लिए हमेशा उपयोगी रहा है.”

CSK को बनाया चैंपियन टीम

पूर्व भारतीय कप्तान ने आईपीएल में भी अपनी लिगेसी स्थापित की है. पहले सीजन से ही CSK की टीम की कप्तानी कर रहे धोनी ने अबतक 3 आईपीएल ख़िताब (2010,2011,2018) जीते हैं. उनकी कप्तानी में टीम ने सबसे ज्यादा 8 बार फाइनल खेला. इसके अतिरिक्त CSK ने माही की कप्तानी ने दो बार चैंपियंस लीग का ख़िताब भी अपने नाम किए हैं.

2020 में पहली बार प्लेऑफ़ से बाहर हुई चेन्नई

हालाँकि, आईपीएल की सफल टीम चेन्नई ने 2020 में पहली बार अपेक्षा के विपरीत प्रदर्शन किया. धोनी की अगुआई में सीएसके आईपीएल के इतिहास में पहली बार प्लेऑफ में जगह बनाने में नाकामयाब रही. टीम ने अंक तालिका में छठे स्थान पर खत्म किया. धोनी का प्रदर्शन भी इस सीजन में साधारण था. उन्होंने 14 मैचों में 25 की औसत से 200 रन ही बनाए थे.

ये भी पढ़ें: एक नज़र पूर्व कप्तान Dhoni के उन 5 फैसलों पर जिन्होंने भारतीय टीम को दी नयी राह