श्रीलंका दौरे को लेकर चयनकर्ताओं ने की 3 बड़ी गलतियाँ ,काफी बुरा हो सकता है इसका अंजाम

image credit: bcci/twitter

जब भी भारतीय टीम किसी दौरे पर जाती है तो सबसे बड़ी जिम्मेदारी चयनकर्ताओं के कन्धों पर ही निर्भर होती है, और वह है सही व सटीक टीम का चयन करना.

और चयनकर्ताओं द्वारा किये गए एक गलत निर्णय का खामियाजा न केवल टीम बल्कि पूरा देश भुगतता है.

हाल ही के समय आगामी श्रीलंका दौरे को लेकर भारतीय टीम के चयनकर्ताओं द्वारा की गयी तीन बड़ी गलतियाँ चारों ओर चर्चा का विषय बनी हुयी है.

आवेश खान की अनदेखी

Credit – Twitter

युवा तेज़ गेंदबाज़ आवेश खान ने आईपीएल में दिल्ली कैपिटल्स की और कमाल की गेंदबाज़ी की है.

आवेश खान अच्छी गति और स्विंग के साथ गेंदबाजी करते हैं

और टूर्नामेंट स्थगित किए जाने से पहले खान ने 14 विकेट चटकाए थे और पर्पल कैप के दावेदारों की लिस्ट में दूसरे स्थान पर विराजमान थे.

आवेश का इस दौरे पर होना टीम के लिये मैच के नतीजों को वाकई में सकारात्मकता की ओर ले जाता.

ऑलराउंडर राहुल तेवतिया को नही दिया मौका

Credit – Twitter

साल 2020 में राहुल तेवतिया ने राजस्थान की तरफ से 14 मैच में 42.50 की औसत से 255 रन बनाए थे. जबकि, 14 मैच में गेंदबाजी करते हुए उन्होंने 10 विकेट चटकाए थे.

हालाँकि 2021 में खेले गए 7 मैचों मात्र 80 रन बनाये है तथा 2 विकेट लिये है.

लेकिन तेवतिया द्वारा ओवरऑल बेहतरीन प्रदर्शन करने के बावजूद चयनकर्ताओं की नजरों ने उनकी प्रतिभा को नज़रअंदाज़ कर दिया.

मनीष पांडेय की टीम में वापसी

Credit – Twitter

मनीष पांडेय ने साल 2015 में भारतीय टीम में डेब्यू किया था और 2020 से लगातार वे टीम का हिस्सा नही है.

ऐसे में सूर्यकुमार यादव,संजू सेमसन व ईशान किशन इनसे बेहतर प्रदर्शन करते हुए नज़र आ सकते है.

वैसे मनीष के अब तक के प्रदर्शन की बात करे तो इन्होंने टीम इंडिया के लिए अब तक 26 वनडे मैच खेले हैं.

जिसमें 35.14 की औसत से 492 रन बनाए हैं. तो वहीं उन्होंने कुल 39 टी20 मैच खेले हैं. जिसमें 44.31 की औसत से कुल 709 रन बनाए हैं.

ये खिलाड़ी है दौरे का हिस्सा-

शिखर धवन (कप्तान), भुवनेश्वर कुमार (उप-कप्तान), पृथ्वी शॉ, देवदत्त पडीक्कल, ऋतुराज गायकवाड़, सूर्यकुमार यादव, मनीष पांडे, हार्दिक पांड्या, नीतीश राणा, ईशान किशन, संजू सैमसन, युजवेंद्र चहल, राहुल चाहर, कृष्णप्पा गौतम, क्रुणाल पांड्या, कुलदीप यादव, वरुण चक्रवर्ती, दीपक चाहर, नवदीप सैनी, चेतन सकारिया.

यह भी पढ़े : क्रिकेट की पवित्रता को कलंक लगाने वाली 5 नस्लीय टिप्पणियाँ, कुत्ता,कालू और बन्दर जैसे गूँजे थे अपशब्द