कोरोनाकाल: 60 हज़ार लोग वैक्सीन लेने के बाद ही कर सकेंगे हजयात्रा, गाइडलाइन्स जारी

Mecca Madina
image credits: Unsplash

कोरोना के चलते इस बार पूरी दुनिया से केवल 60 हजार लोग ही हज यात्रा पर जा सकेंगे, हालांकि इस दौरान कोविड नियमों का पालन अनिवार्य रूप से करना होगा. गौरतलब है इस बार हज पर जाने वालों के लिए कोविशील्ड वैक्सीन की दोनों खुराक लेना सबसे जरूरी शर्त है. इस्लामी वर्ष हिजरी 1442 के हज की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं. हज कमेटी ऑफ इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. मक्सूद अहमद खान केपत्र के अनुसार सऊदी अरब सरकार ने हज की गाइडलाइन जारी की है.

15 हजार का कोटा अरब के लोगों के लिए सुरक्षित

सोमवार को खादिमुल हुज्जाज (हज सेवक) एवं मुस्लिम फंड ट्रस्ट के प्रबंधक मोहम्मद सुहैल सिद्दीकी ने बताया कि सऊदी सरकार द्वारा घोषित 60 हजार हाजियों में 15 हजार लोगों का कोटा अरब के लोगों के लिए सुरक्षित किया गया है इसलिए अब कि पूरी दुनिया से केवल 45 हजार खुशकिस्मत लोग ही इस वर्ष हज का फरीजा अदा कर सकेंगे. उन्होंने बताया कि उम्मीद है कि सऊदी सरकार एक सप्ताह के भीतर यह भी ऐलान कर देगी कि किस देश के कितने लोगों को हज के लिए सऊदी अरब आने की अनुमती दी जाएगी. हिन्दुस्तान का कोटा निर्धारित होने के बाद उसे प्रांत स्तर पर बांटा जाएगा.

कोवीशील्ड की दोनों डोज लेनी होंगी

बतादें, हज कमेटी ऑफ इंडिया की ओर से दिसंबर 2020 मे आजमीने हज से आवेदन मांगे गए थे. वहीं कोरोना महामारी से बचाव के मद्देनजर सऊदी अरब सरकार ने इस बार 18 वर्ष से कम और 60 वर्ष से अधिक आयु वाले लोगों की हज यात्रा पर पाबंदी लगा दी है. अब केवल 18-60 की उम्रवर्ग के लोग ही हजयात्रा कर सकेंगे.

दिशा-निर्देश के अनुसार जिसमें आजमीन हज के लिए सीरम इंस्टीट्यूट के कोवीशील्ड की दोनों डोज लेने को भी अनिवार्य किया गया है. वहीं साथ ही आजमीने हज के सऊदी अरब पहुंचने पर उन्हें तीन दिन तक होम क्वारंटीन रखा जाएगा.

ये भी पढ़ें: स्टडी: फाइजर वैक्सीन कम असरदार लेकिन भारत में मिले वैरिएंट से बचाने में कारगर