Pfizer और Moderna वैक्सीन नहीं करती पुरुषों की प्रजनन क्षमता पर असर: स्टडी

covid-19 vaccine
Image credits: Unsplash

कोरोना संक्रमण से लड़ाई में मददगार साबित होती फाइजर और मॉडर्ना वैक्सीन लगवाने से पुरुषों की प्रजनन क्षमता पर असर पड़ने की अफवाहों पर विराम लगाते हुए एक नई स्टडी में यह कहा गया है कि यह दोनों कोविड वैक्सीन बिलकुल भी इस तरह की क्षमता को प्रभावित नहीं करती है. स्टडी में यह कहा गया है कि यह वैक्सीन लेने वाले लोगों में स्पर्म लेवल हेल्दी बना रहता है.

स्वस्थ प्रतिभागियों पर हुआ अध्यन

बतादें जर्नल जामा, में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक इस अध्ययन में 18 से 50 वर्ष के 45 स्वस्थ लोगों को शामिल किया गया जिन्हें फाइजर-बायोएनटेक और मॉडर्ना के एमएआरएनए कोविड-19 टीके लगने थे. इस अध्ययन में प्रतिभागियों की पूर्व में ही जांच कर यह भी पता लगाया कि उन्हें पहले से कोई प्रजनन संबंधी समस्या नहीं हो. इसमें 90 दिन पहले तक कोविड-19 से ग्रस्त हुए या उसके लक्षण वाले लोगों को शामिल नहीं किया गया. इसमें पुरुषों को टीके की पहली खुराक लगाये जाने से पहले उनके वीर्य के नमूने लिये गये और दूसरी खुराक के करीब 70 दिन बाद नमूने लिये गये.

अध्ययन में पाया गया है कि लोगों को टीके की दो खुराक लगने के बाद भी उनके शुक्राणुओं के स्तर पर प्रभाव नहीं पड़ा. अध्ययन के लेखकों में शामिल अमेरिका के मियामी विश्वविद्यालय के एक अध्ययनकर्ता ने कहा है कि वैक्सीन लगवाने में लोगों की हिचक का एक कारण प्रजनन क्षमता पर पड़ने वाले नकारात्मक असर होने की धारण भी है. अध्ययन में विशेषज्ञों ने पाया कि वैक्सीन का प्रजनन क्षमता पर कोई नकारात्मक प्रभाव नहीं पड़ा यानी इससे शुक्राणुओं का स्तर कम नहीं हुआ.

वैक्सीन लगवाने में हिचक का एक कारण प्रजनन क्षमता पर असर

विश्व स्वास्थ्य संगठन के दिशानिर्देशों के अनुसार प्रशिक्षित विशेषज्ञों ने विभिन्न मानकों पर शुक्राणुओं की जांच की. अध्ययन के लेखकों में शामिल अमेरिका की मियामी यूनिवर्सिटी के एक अध्ययनकर्ता ने कहा कि टीका लगवाने में लोगों की हिचक का एक कारण प्रजनन क्षमता पर नकारात्मक असर होने की धारणा भी है.

ये भी पढ़ें: सावधान- कोरोना वायरस खत्म नहीं हुआ यह बदल रहा है रंग, एम्स के डॉक्टर ने किया आगाह