comscore
Monday, December 5, 2022
- विज्ञापन -

Aaj ka shlok: लोभ के वशीभूत होकर जो व्यक्ति करता है पाप, श्री कृष्ण के अनुसार उसके साथ होता है ऐसा…

Published Date:

Aaj ka shlok: प्रत्येक सुबह हम आपके लिए श्रीमद्भागवत गीता का एक श्लोक लेकर आते हैं. जिसे पढ़कर आप अपने दिन की शुरुआत करते हैं. श्रीमदभागवत गीता का महत्व धार्मिक और वैज्ञानिक दृष्टि से देखने को मिलता है. इसकी उत्पत्ति तब हुई थी, जब महाभारत काल में श्री कृष्ण ने अर्जुन को गीता का ज्ञान दिया था.

गीता हिंदुओं का एक पवित्र ग्रंथ है, जिसमें लिखी बातें व्यक्ति के जीवन में एकदम सटीक बैठती हैं. यही कारण है आज भी अगर कोई व्यक्ति जरूरत से ज्यादा विचलित हो जाए, या सुख दुख के बंधन में ही बंधा रह जाए, तब गीता का पाठ ही उसकी भव सागर की नौका को पार लगा सकता है.

गीता का पाठ करने या सार समझने के पश्चात ये निश्चित है कि व्यक्ति सदैव के लिए मोह माया के बंधन से छुटकारा पा लेता है. साथ ही उसको प्रतिदिन गीता का अध्ययन करने से व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है.

ऐसे में आज हम आपके लिए हिंदुओं के पवित्र ग्रंथ गीता का एक अन्य श्लोक लेकर आए हैं. जिसे पढ़ने और जपने मात्र से आपको जगत के पालनहार श्री कृष्ण की कृपा के साथ उनका आशीर्वाद भी मिलता है.

अहो बत महत्पापं कर्तुं व्यवसिता वयम्‌ ।

यद्राज्यसुखलोभेन हन्तुं स्वजनमुद्यताः ॥

आज का श्लोक

तात्पर्य है कि हम लोग बुद्धिमान होकर भी महान पाप करने को तैयार हो गए हैं, जो राज्य और सुख के लोभ से स्वजनों को मारने के लिए उद्यत हो गए है.

इस प्रकार, प्रतिदिन गीता के श्लोक या आज का श्लोक पढ़ने के बाद आप अपनी ज्ञानेंद्रियों को नियंत्रित रख सकते हो, साथ ही दुनिया के मायाजाल से परे अपने जीवन को उद्देश्यपूर्ण बना सकते हो.

इतना ही नहीं, प्रतिदिन गीता के एक श्लोक का अध्ययन या जाप करने मात्र से आपको जीवन चक्र से छुटकारा मिल सकता है. साथ ही आपको सदैव ऐसा ही प्रतीत होगा कि भगवान श्री कृष्ण सदैव आपके साथ हैं.

Anshika Johari
Anshika Joharihttps://hindi.thevocalnews.com/
अंशिका जौहरी The Vocal News Hindi में बतौर Sub-Editor कार्यरत हैं. उनकी रुचि विशेषकर धर्म आधारित विषयों में है, और इस विषय पर वह काफी समय से लिखती आ रही हैं. उन्होंने अपनी जर्नलिज्म की पढ़ाई इन्वर्टिस यूनिवर्सिटी, बरेली से की है.
- विज्ञापन -

ताजा खबरें

अन्य सम्बंधित खबरें