Bhadrapada Month 2022: सावन के बाद भादों भी है विशेष, इस महीने में भूल से भी ना करें ये काम, वरना जिंदगी भर रहेंगे परेशान

Aaj ka Panchang
Image Credit:- thevocalnewshindi

Bhadrapada Month 2022: जैसा की विदित है कि सावन का महीना समाप्त हो चुका है. जिसके बाद भादो यानी कि बरसात के दिन शुरू हो गए हैं. हिंदू धर्म में हर महीना किसी रूप से विशेष माना गया है. ऐसे में भादो का महीना भी मुख्य रूप से भक्ति और ईश्वर की कृपा पाने का विशेष महीना माना गया है. इस महीने में भगवान श्री कृष्ण का जन्म हुआ था, साथ ही इस महीने में गणेश उत्सव जैसे पर्व भी मनाए जाते हैं.

ये भी पढ़े:- जन्माष्टमी पर क्यों मनाया जाता है भगवान श्री कृष्ण का जन्मदिन? ये है प्रमुख कारण

ऐसे में भादो के महीने में किन कामों को करने से बचना चाहिए, जिससे आपको जीवन भर पछतावा ना करना पड़े. साथ ही हम उन कामों के बारे में भी चर्चा करेंगे, जोकि भादो के महीने में अवश्य करने चाहिए. तो चलिए जानते हैं…

Krishna bhajan

भादो के महीने में भूल से भी ना करें ये काम

भादो का महीना काफी पुण्य कमाने वाला महीना कहलाता है. इस महीने में भूल से भी किसी का अपमान नहीं करना चाहिए.

इस महीने में भूल से भी शादी, रोका या नए घर का निर्माण आदि कार्यों की शुरुआत नहीं करनी चाहिए.

भादो के महीने में जो भी व्यक्ति व्रत का पालन करता है, उसे भूल से भी इस महीने में झूठ आप शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. साथ ही उसे पलंग पर नहीं सोना चाहिए.

भादो के महीने में गुड़ दही से बनी चीजों के सेवन से बचना चाहिए, क्योंकि इन चीजों से बने पकवानों को पूजा के लिए इस्तेमाल किया जाता है.

भादों के दिनों में तामसिक भोजन को ग्रहण नहीं करना चाहिए. इस दौरान ब्रह्मचर्य का पूर्ण रुप से पालन जरूर करना चाहिए.

Diwali 2021: ये 21 शुभ चीजें घर लाने से बदलेगी, घर में होगी धनवर्षा

भादो के महीने में जरूर करें ये काम

भादो के महीने में हर व्यक्ति को दो बार स्नान जरूर करना चाहिए. आप एक बार सूर्योदय से पहले उठकर और दूसरी बार शाम के समय भगवान की आराधना से पहले स्नान कर सकते हैं.

भादो के महीने में गौ सेवा और गौ पूजन अवश्य करना चाहिए. इतना ही नहीं आराधना करते समय लोटे में लिए गए जेल में कुछ बूंदे गोमूत्र की मिलाकर ही उनकी आराधना करें. इससे आपके जीवन के सारे दुख दर्द दूर होंगे.

इस महीने में भगवान श्रीकृष्ण को प्रसन्न करने के लिए या उनकी कृपा पाने के लिए श्रीमद् भागवत गीता का पाठ अवश्य करना और सुनना चाहिए.

भादो के महीने में श्री कृष्ण को गाय के दूध से बने पंचामृत का प्रसाद अवश्य चढ़ाना चाहिए.

महीने में भगवान की उपासना करने के लिए वैजयंती माला या तुलसी और चंदन से बनी माला का जाप करना चाहिए.