Chanakya Niti: इस तरह से मिनटों में पता चल जाएगा कौन है अपना, और कौन है पराया?

Chanakya Niti
Image Credit:- thevocalnewshindi
Last updated:

Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य नीति महान विद्वान चाणक्य द्वारा लिखी गई नीति है. जो जीवन के हर मुश्किल पड़ाव में व्यक्ति की सहायता करती है. रिश्तों की परख करना भी चाणक्य नीति के नीति सीख का एक हिस्सा है. दरअसल जीवन में सुख दुख का आना जाना लगा रहता है.

ये भी पढ़े:- ऐसे स्वभाव वाले व्यक्ति से सदा बनाकर रखें दो गज की दूरी, वरना…

लेकिन सुख में आपका साथ देने लोग जब आपके दुख में भी बराबर का साथ दे तो ऐसे लोग अपने करीब लोगों की श्रेणी में आते हैं. वहीं कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जो अपने होकर भी पराए होते हैं. लेकिन अपनों के बीच में इन पराए लोगों की पहचान आखिर कैसे करी जाए, यह चाणक्य नीति में बताया गया है.

Chanakya Niti

तो आइए जानते हैं कुछ विशेष बातों से आप कैसे अपने और पराए की पहचान कर सकते हैं.

स्पष्ट रहने वाले लोग सदा रहेंगे आपके लिए मौजूद

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि जीवन में जो लोग आपके साथ स्पष्ट रूप से जुड़े होते हैं वह आपके अपने होते हैं. सच बोलने वाले लोग हमेशा सबको पसंद नहीं आती लेकिन आखिरकार वही ऐसे होते हैं जो स्पष्ट रूप से बोलते हैं. जो इंसान आपके साथ स्वार्थ ईर्ष्या आदि भावना रखता है वह कभी अपना नहीं हो सकता है.

Chanakya Niti

जिसमें नहीं है त्याग की भावना वह होता है पराया

चाणक्य कहते हैं कि यदि आपको आजमाना है कि कौन आपका अपना है और कौन आपका पराया है तो त्याग की परीक्षा लीजिए. जो आपका अपना होगा वह अपना सर्वस्व त्याग करने के लिए हमेशा तत्पर रहेगा. जो आपका अपना नहीं होगा वह आपके लिए और आपकी खुशी के लिए किसी भी प्रकार का त्याग नहीं कर पाएगा.

Chanakya Niti

लालची व्यक्ति किसी का भी नहीं होता है अपना

एक लालची व्यक्ति कभी भी किसी का सगा नहीं हो सकता है. चाहे पैसों का लालच हो या किसी और चीज का लालची व्यक्ति अपने लालच के लिए बेहद स्वार्थी बन जाता है. इसलिए यदि आपके बीच कोई ऐसा व्यक्ति है जो किसी चीज का लालच रखता है वह आपका अपना नहीं हो सकता है.