comscore
Friday, December 9, 2022
- विज्ञापन -

Chanakya Niti: पति-पत्नी के बीच जहर घोलने का काम करती हैं ये बातें, दुश्मनी तक की आ जाती है नौबत

Published Date:

Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य भारत के महान विद्वान व अर्थशास्त्री रहे हैं. उन्होंने मानव जीवन से जुडी कई ऐसी बातों का समावेश अपनी चाणक्य नीति में किया है जिसका पालन करके व्यक्ति सफलता की ओर अग्रसर हो जाता है. करियर में सफलता और नाकामयाबी से किस प्रकार आगे बढ़ा जाए चाणक्य नीति ऐसे ही सूत्र बताती है.

लेकिन सफलता और करियर से जुड़े ही नहीं बल्कि चाणक्य ने वैवाहिक और प्रेमी जीवन से जुड़े प्रश्नों को भी हल किया है. चाणक्य के अनुसार वैवाहिक जीवन मानव का सबसे सुंदर पड़ाव होता है. वैवाहिक जीवन में जब स्त्री और पुरुष पति-पत्नी के रूप में आपस में जुड़ते हैं तो उनके लिए यह रिश्ता सर्वोपरि हो जाता है.

ऐसे में दोनों के बीच तालमेल होना बेहद आवश्यक है परंतु कुछ अवगुणों के चलते इनका तालमेल होना मुश्किल भी हो जाता है. चाणक्य नीति में कुछ ऐसे ही बातों का समावेश किया गया है जिनके जरिए एक पत्नी और एक पति आपस में ही बैरी बन जाते हैं.

Chanakya Niti

शक कर देता है रिश्तों को बर्बाद

किसी भी रिश्ते को मजबूत बनाने में सबसे अहम भूमिका विश्वास की होती है. लेकिन यदि आपका पार्टनर विश्वास की जगह आप पर शक करता है तो यह रिश्ते की डोर में गांठ डालने के लिए काफी है. शक के होने से आपका प्यार नफरत में भी बदल सकता है. इसलिए अपने दांपत्य जीवन को इस बीमारी से कोसों दूर रखें.

Chanakya Niti

अहंकार है रिश्ते के लिए घातक

अहंकार की भावना तो हर मनुष्य के जीवन का नाश कर सकती है. हालांकि दांपत्य जीवन में पति और पत्नी का स्थान समान होता है. लेकिन यदि इन दोनों में से किसी के अंदर भी अहंकार की उत्पत्ति हो जाती है. तो दांपत्य रिश्ते का रस खराब हो जाता है. इसीलिए दोनों को ही अहंकार से दूर रहना होगा तभी रिश्ता जन्मो तक कायम रह सकता है.

Chanakya niti

एक झूठ कर सकता है रिश्ते की नींव को कमजोर

झूठ बोलना किसी भी रिश्ते के लिए हानिकारक हो सकता है. ऐसे में वैवाहिक जीवन में झूठ का स्थान तो कभी नहीं होना चाहिए. अपने रिश्ते की शुरुआत आप कभी झूठ से ना करें. अपने वैवाहिक जीवन को मजबूत बनाने के लिए हर कदम पर सच्चाई का साथ दें.

ये भी पढ़ें:- इन बातों का रखेंगे ध्यान तो दांपत्य जीवन में सदा बनी रहेंगी खुशियां

आदर सम्मान देना है कर्तव्य

पति पत्नी के रिश्ते में दोनों को आदर सम्मान देना एक दूसरे का कर्तव्य है. इस रिश्ते में ना कोई छोटा है और ना कोई बड़ा. दोनों को ही आदर सम्मान के साथ एक दूसरे की समस्याओं का समाधान निकालना चाहिए. यदि आप अपशब्द या निरादर करके अपने साथी के साथ व्यवहार करेंगे तो बेशक आपके रिश्ते में दरार आ जाएगी.

Anshika Johari
Anshika Joharihttps://hindi.thevocalnews.com/
अंशिका जौहरी The Vocal News Hindi में बतौर Sub-Editor कार्यरत हैं. उनकी रुचि विशेषकर धर्म आधारित विषयों में है, और इस विषय पर वह काफी समय से लिखती आ रही हैं. उन्होंने अपनी जर्नलिज्म की पढ़ाई इन्वर्टिस यूनिवर्सिटी, बरेली से की है.
- विज्ञापन -

ताजा खबरें

अन्य सम्बंधित खबरें

Relationship Tips: पार्टनर से कभी नहीं रखें 5 एक्सपेक्टेशन, कभी सक्सेसफुल नहीं होते ऐसे रिश्ते

Relationship Tips:: कहते हैं किसी रिश्ते में उम्मीदें यानी कि...