comscore
Tuesday, December 6, 2022
- विज्ञापन -

Shardiya Navratri 2022: नवरात्रि के 8वें और 9वें दिन कराया जाता है कन्या भोज, जानिए क्या होता है इससे लाभ?

Published Date:

Shardiya Navratri 2022: भारतवर्ष में हर वर्ष नवरात्रि का पर्व चार बार मनाया जाता है. लेकिन इन चार नवरात्रि में से चैत्र और शारदीय नवरात्रि को विशेष तौर पर मनाया जाता है. चैत्र व शारदीय नवरात्रि की अष्टमी व नवमी तिथि पर नौ कन्याओं का पूजन किया जाता है.

माता रानी के नव रूपों की अलग-अलग पूजा अर्चना की जाती है. नवरात्रि के शुभ मुहूर्त पर पूजा की जाती है और व्रत का अनुष्ठान किया जाता है. 2 साल की उम्र से 10 साल की उम्र तक की कन्याओं की पूजा अर्चना की जाती है. उनका सम्मान किया जाता है और भेंट प्रदान की जाती है.

शारदीय नवरात्रि का प्रारंभ तो 26 सितंबर से ही हो चुका है. जिसके चलते शारदीय नवरात्रि की अष्टमी तिथि 3 अक्टूबर को और नवमी तिथि 4 अक्टूबर 2022 को मनाई जाएगी.

Shardiya Navratri 2022

आइए जान लेते हैं कि अष्टमी और नवमी पर पूजा का शुभ मुहूर्त क्या है…

कन्या पूजन 2022 अष्टमी मुहूर्त

अभिजीत मुहूर्त: 12.04 दोपहर – 12.51 दोपहर
विजय मुहूर्त: 02.27 दोपहर – 03.14 दोपहर
गोधूलि मुहूर्त: 06.13 शाम – 06.37 शाम

कन्या पूजन 2022 नवमी मुहूर्त

अभिजित मुहूर्त: दोपहर 11.52 PM – 12.39
गोधूलि मुहूर्त: दोपहर 05.58 PM – 06.22
अमृत मुहूर्त: शाम 04.52 PM – 06.22

Shardiya Navratri 2022

अष्टमी तथा नवमी को करें इस प्रकार कन्याओं का पूजन

शारदीय नवरात्रि में अष्टमी तथा नवमी तिथि को कन्याओं को भोज कराया जाता है और उनका सम्मान किया जाता है. शास्त्र के मुताबिक 10 साल से कम उम्र की कन्याओं को नवरात्रि में देवी का स्वरूप माना जाता है.

अष्टमी तथा नवमी को आप कन्याओं को अपने घर बुलाकर उनको भोज कराएं, भेंट दे तथा उनका सम्मान करें. इसके अलावा आप अपनी सामर्थ्य के अनुसार 18, 27, 36 कन्याओं को भी आमंत्रित कर सकते हैं.

Shardiya Navratri 2022
  1. कन्याओं को भोजन के लिए आमंत्रित करके सर्वप्रथम आप उनके पैर धो कर अपने घर के आंगन में उनका स्वागत करें.
  2. इसके बाद उनको भोजन में मिष्ठान और फल आदि देना ना भूलें.
  3. भोजन के बाद उनका तिलक करके उन्हें यथा योग्य उपहार प्रदान करें.
  4. नवरात्रि में हर जाति, हर वर्ण की कन्या को देवी स्वरूप माना जाता है.
  5. इसलिए आप कन्या भोज के लिए 10 वर्ष तक कि किसी भी कन्या को आमंत्रित कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें:- नवरात्रों में खरीदकर लाएं ये चमत्कारी सिक्के, देवी माता जीवनभर बरसाएंगी कृपा

पुराणों के अनुसार कन्याओं को भोजन कराने से आपकी दुख दूर होंगे. खुशियों का आगमन होगा. गंभीर रोगों का नाश होता है. माता लक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्त होती है. शत्रु पर विजय प्राप्त करने की शक्ति मिलती है. इसके अलावा आपके सभी मनोरथ पूरे होंगे.

Anshika Johari
Anshika Joharihttps://hindi.thevocalnews.com/
अंशिका जौहरी The Vocal News Hindi में बतौर Sub-Editor कार्यरत हैं. उनकी रुचि विशेषकर धर्म आधारित विषयों में है, और इस विषय पर वह काफी समय से लिखती आ रही हैं. उन्होंने अपनी जर्नलिज्म की पढ़ाई इन्वर्टिस यूनिवर्सिटी, बरेली से की है.
- विज्ञापन -

ताजा खबरें

अन्य सम्बंधित खबरें

Vastu for luck: जेब में रखें इस रंग का रूमाल, हर काम में होगा लाभ ही लाभ

Vastu for luck: अधिकतर महिला अथवा पुरुष अपने साथ...