Thursday Remedies: लाख कोशिशों के बाद भी नहीं तय हो पा रहा कहीं रिश्ता, तो हल्दी का दान दूर करेगा विवाह की अड़चनें

Thursday Remedies
source: pexels

Thursday Remedies: हिंदू धर्म में सप्ताह के सातों दिन किसी ना किसी भगवान को अवश्य ही समर्पित होते हैं. आज गुरुवार का दिन जोकि भगवान विष्णु का दिन है. ऐसे में जो भी व्यक्ति भगवान विष्णु की और ग्रहों में देव बृहस्पति की आराधना करते हैं. उनके जीवन में आने वाली सभी परेशानियों का हल हो जाता है. ऐसे में यदि तमाम कोशिशों के बाद भी कहीं भी आपका रिश्ता तय नहीं हो पा रहा है, या विवाह में अड़चनें आ रही हैं. गुरुवार के दिन आप हल्दी से जुड़ा ये उपाय करके विवाह में हो रही देरी की समस्या को दूर कर सकते हैं.

ये भी पढ़े:- 18 और 19 अगस्त, पंचांग के अनुसार जानिए किस दिन जन्माष्टमी मनाना रहेगा फलदाई?

इसके लिए हमारे आज के इस लेख में हम आपको आगे हल्दी से जुड़ा वास्तु उपाय बताने वाले हैं. जिसको करने मात्र से आपके ना केवल बिगड़े काम बन जाएंगे, बल्कि विवाह में आ रही परेशानियां भी दूर हो जाएंगी. तो चलिए जानते हैं…

Haldi plant

गुरुवार के दिन जरूर कीजिए हल्दी से जुड़े उपाय

माना जाता है कि जिन भी लोगों की कुंडली में गुरु बृहस्पति कमजोर होते हैं, उनके विवाह में अवश्य ही रुकावट आती है. ऐसे भी गुरुवार के दिन यदि आप युवक-युवतियां लगभग 11 गुरुवार तक कपड़े में हल्दी की गांठ को बांधकर अपने साथ रखते हैं. वास्तु के अनुसार आपको अपना मनचाहा जीवनसाथी मिलने के आसार बढ़ जाते हैं. इतना ही नहीं विवाह में आ रही सारी रुकावटें भी दूर हो जाती है.

गुरुवार के दिन यदि आप स्नान करते समय जल में थोड़ी सी हल्दी डाल लें, तो इससे आपकी आर्थिक परेशानियां दूर होती है. साथी करियर और व्यापार में आने वाली परेशानियां भी दूर हो जाती है.

Haryana Shagun Scheme

अगर आपके घर में सदस्यों के बीच आपसी भेदभाव और तनाव की स्थिति बनी हुई है. तो गुरुवार के दिन अपने घर के बाहर की दीवार पर हल्दी से एक लकीर बना दे. इससे बुरी शक्तियां आपके घर में प्रवेश करने से बढ़ती है और आपके घर में सकारात्मक ऊर्जा का वास होता है.

हर बृहस्पतिवार को जल में हल्दी मिलाकर केले के पेड़ की जड़ में डालने से आपके सारे रुके हुए काम पूर्ण हो जाते हैं. मान्यता है कि केले के पेड़ में भगवान विष्णु विराजते हैं. ऐसे में केले के पेड़ की पूजा हर गुरुवार को करने पर आपके ऊपर भगवान विष्णु समेत माता लक्ष्मी दोनों की कृपा बनी रहती है.