Ind vs Eng: इंग्लैंड की धरती पर टीम इंडिया का रिकॉर्ड पाकिस्तान से भी खराब, 89 सालों में जीते सिर्फ 7 टेस्ट मैच

Ind vs Eng: इन दिनों टीम इंडिया और पाकिस्तान की टीमें इंग्लैंड दौरे पर गई हुई है. भारत को इंग्लैंड के खिलाफ पांच टेस्ट मैचों की सीरीज खेलनी है. सीरीज की शुरुआत 4 अगस्त से होगी. वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप 2021-23 चक्र में टीम इंडिया का यह पहला विदेशी दौरा होगा. जबकि, पाकिस्तान की टीम इंग्लैंड के खिलाफ 3 एकदिवसीय मैचों की सीरीज खेल रही है.

बता दें कि कीवी टीम के खिलाफ डब्लूटीसी के फाइनल (WTC final) में मिली हार के बाद से ही भारतीय खिलाड़ी ब्रेक पर हैं. पूरी टीम 15 जुलाई से डरहम में कैंप के लिए वापस से जुड़ेंगे.

कठिन रहा है इंग्लैंड का दौरा

गौरतलब है कि इंग्लैंड का दौरा टीम इंडिया के लिए शुरू से ही बड़ी चुनौती साबित हुई है. भारत ने इंग्लैंड की सरजमीं पर सबसे पहला टेस्ट 89 साल पहले, साल 1932 में खेला था. बता दें कि अबतक टीम इंडिया ने इंग्लैंड में अब तक 63 टेस्ट मैच खेले हैं, इसमें सिर्फ 7 में ही जीत नसीब हुई है. वही 35 मुकाबले हारे हैं, जबकि 21 मैच ड्रा पर समाप्त हुए है.

पाकिस्तान का बेहतर रिकॉर्ड

दूसरी तरफ चिर प्रतिद्वंदी पाकिस्तान का रिकॉर्ड भारत से बेहतर रहा है. इंग्लैंड में खेले 58 टेस्ट मैचों में पाकिस्तान ने 13 मैचों में सफलता प्राप्त की है, जबकि सिर्फ 25 मैच गंवाए हैं. इसका मतलब कि पड़ोसी मुल्क ने हमसे कम टेस्ट मैच खेलने के बावजूद, 6 टेस्ट अधिक जीतने में कामयाब रहे हैं. टेस्ट की टॉप-8 टीमों के हार-जीत के औसत की बात की जाए तो इंग्लैंड में टीम इंडिया का प्रदर्शन सबसे खराब है.

पिछले 10 में से 2 टेस्ट मैच जीते हैं

इससे पहले इंग्लैंड में बीते 10 टेस्ट मैचों में टीम इंडिया ने सिर्फ 2 में ही जीत प्राप्त की है, जबकि 8 में टीम को हार का सामना करना पड़ा है. इनमें न्यूजीलैंड के खिलाफ WTC का फाइनल भी शामिल है. भारत का प्रदर्शन इतना ख़राब रहा है कि इनमें 3 मैच पारी से वही 2 मैच 200 से अधिक रनों से गंवाए हैं. ऐसे में कप्तान विराट कोहली के ऊपर टीम इंडिया के इस बेकार रिकॉर्ड को बदलने की जिम्मेदारी होगी.

भारत को इंग्लैंड की धरती पर सिर्फ 3 बार ही कामयाबी मिली है. साल 1971 में सबसे पहले अजीत वाडेकर की कप्तानी में टीम ने तीन मैचों की टेस्ट सीरीज पर 1-0 से कब्जा किया. उसके बाद वर्ल्ड कप विजेता कप्तान कपिल देव ने 1986 में टीम को 2-0 से बड़ी जीत दिलवाई. वहीं 2007 में राहुल द्रविड़ की कप्तानी ने 3 मैच की सीरीज 1-0 से जीती.

ये भी पढ़ें: On This Day – जब लॉर्ड्स पर टीम इंडिया ने लहराया था तिरंगा, युवराज-कैफ ने रचा था इतिहास