Mahendra Singh Dhoni: लंबे बाल वाले रांची के इस लड़के की कप्तानी में भारत टी-ट्वेंटी विश्वकप ऐसे जीता

Ms Dhoni
Instagram / CSK

माही, कैप्टन कूल, महेंद्र सिंह धोनी, थाला, एमएसडी और भी इनके न जाने कितने नाम हैं लेकिन कारनामे हमेशा एक समान, टीम को जीत दिलाना। जिस टीम से यह धुरंधर खेलता है उसके हार-जीत का समीकरण यही तय करता है। वो चाहे बल्ले से, स्टम्प्स के पीछे ग्लव्स से या फिर कप्तानी करते हुए फील्ड सजाकर बल्लेबाजों को फँसाकर। दिवंगत अभिनेता सुशांत सिंह अभिनीत “एमएस धोनी द अनटोल्ड स्टोरी” में धोनी के शुरुआती संघर्ष को बखूबी दर्शाया गया है।
तकरीबन एक दशक तक भारत की कप्तानी करने वाले धोनी ने अपने अंतरराष्ट्रीय कैरियर की शुरुआत 23 दिसंबर 2004 को सौरव गांगुली की कप्तानी में की। उस समय भारतीय टीम रिफॉर्मेशन के दौर से गुजर रही थी।

विकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर टीम में 2 दावेदार दिनेश कार्तिक और पार्थिव पटेल भी थे। धोनी को अपनी जगह पक्की करने के लिए इन दोनों के साथ एक स्वस्थ स्पर्धा करनी थी। अपने पहले सीरीज में धोनी का प्रदर्शन कुछ खास नहीं था। पूरे श्रृंखला में माही कुल मिलाकर 20 रन भी नहीं बना पाए।

हालाँकि पाकिस्तान के खिलाफ अगले ही सीरीज में धोनी ने अपने पिता पानसिंह के सरनेम को अंतरराष्ट्रीय ख्याति दिला दी। आखिर में 2007 टी-ट्वेंटी विश्वकप में एमएसडी को टीम का नेतृत्व करने का मौका मिल गया। टीम की कमान मिलते ही माही की क़िस्मत ही बदल गयी। लंबे बाल वाले रांची के इस लड़के की कप्तानी में भारत टी-ट्वेंटी विश्वकप जीत गया।

दक्षिण अफ्रीका में आईसीसी द्वारा आयोजित पहले टी-ट्वेंटी विश्वकप में ही दुनिया को भनक लग गई थी कि कोई बड़े दिल वाला कप्तान आ रहा है। फिर यहीं शुरू होता है धोनी युग। कैप्टेन कूल ने 2009 में भारत को पहली बार टेस्ट में नंबर 1 बनाया। इसके बाद 2011 विश्वकप जिताकर भारत को 28 साल बाद फिर विश्व क्रिकेट का चैंपियन बनाया।

2013 में इंग्लैंड में आयोजित चैंपियन्स ट्रॉफी जीतकर थाला पहले और एकलौते ऐसे कप्तान हैं जो आईसीसी द्वारा आयोजित तीनों ट्रॉफी जीते हों। दुनियाभर के क्रिकेट दिग्गज माही की कप्तानी में खेलना पसंद करते हैं। इसके अलावा दुनिया की सबसे मशहूर क्रिकेट लीग आईपीएल में तीन ट्रॉफी जीतने का गौरव धोनी के नाम है। माही की कप्तानी वाली चेन्नई सुपरकिंग्स आईपीएल की दूसरी सबसे सफल फ्रैंचाइज़ी है।

क्रिकेट के अलावा धोनी खाली वक़्त में सेना के साथ समय बिताना पसंद करते हैं। धोनी भारतीय सेना में मानद लेफ्टिनेंट कर्नल के पद पर कार्यरत हैं। रांची के इस लोकल बॉय को बाइक्स का भी बहुत शौक है। अपने गैराज में माही ने एक से बढ़कर एक बाइक्स का कलेक्शन रखा है। मजेदार बात ये है कि माही अपने हर गाड़ी का ख्याल खुद रखते हैं और समय पर खुद ही रिपेयर करते हैं।

ये भी पढ़ें: सचिन तेंदुलकर:जब तेंदुलकर ने आखिरी ओवर में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ छह रन का बचाव करके इतिहास रचा था