विंबलडन ओपन: वर्ल्ड नंबर 1 एश्ले बार्टी ने रचा इतिहास, किया ये बड़ा कारनामा

image credit: twitter

ग्रास कोर्ट पर गुरुवार को इतिहास रचा गया. विंबलडन ओपन (Wimbledon Open) के महिला वर्ग में एश्ले बार्टी (Ashleigh Barty) पहली बार फाइनल में पहुंचने में कामयाब रही. विश्व की नंबर 1 महिला टेनिस खिलाड़ी ने सेमीफाइनल में पूर्व विंबलडन चैंपियन जर्मनी की एंजेलिक कर्बर को हराकर प्रतियोगिता से बाहर किया. ऑस्ट्रेलिया की एश्ले बार्टी ने तीन सेटों तक चले मुकाबले में कर्बर को 6-3, 7-6 (3) से पराजित किया.

ऑस्ट्रलियाई महिला नंबर 1 बार्टी की जीत ने कर्बर का दूसरा विंबलडन ख़िताब जीतने का सपना तोड़ दिया. वह इस जीत के साथ ही बार्टी ने एक बड़ा कीर्तिमान स्थापित किया. वह 1980 में इवोन गुलागोंग के बाद से विंबलडन फाइनल में खेलने वाली ऑस्ट्रेलिया की पहली महिला होंगी.

इससे पहले ऑस्ट्रेलिया की स्टार टेनिस खिलाड़ी ने 2019 का फ्रेंच ओपन जीता था. वही बीते ऑस्ट्रलियन ओपन में उन्होंने सेमीफाइनल तक का सफ़र तय किया था.

दूसरे सेट में पिछड़ने के बाद की वापसी

गुरुवार को हुए सेमीफाइनल में बार्टी ने पहला सेट आसानी से जीत लिया. लेकिन, अगले सेट में उन्हें कर्बर ने कड़ा संघर्ष दिया. एक समय कर्बर 5-3 पर दूसरा सेट जीतने के लिए सर्विस कर रही थीं, लेकिन 0-40 से पिछड़ने के बावजूद बार्टी ने गेम और सेट पॉइंट बचाया. इसके बाद सेट टाईब्रेकर तक खिंच गया. उसके बाद वर्ल्ड नंबर 1 टेनिस खिलाड़ी ने टाईब्रेकर में 6-0 की बढ़त हासिल कर ली और फिर अपने चौथे मैच प्वाइंट पर जीत दर्ज की.

विंबलडन को महिला वर्ग में मिलेगी नई चैंपियन

ऑस्ट्रेलिया की एश्ले बार्टी विंबलडन ओपन के फाइनल में चेक गणराज्य की कैरोलिना प्लिसकोवा से भिड़ेंगी. प्लिसकोवा ने सेमीफाइनल में बेलारूस की अर्यना सबालेंका को 5-7, 6-4, 6-4 से हराकर पहली बार फाइनल में प्रवेश किया. दोनों ही खिलाड़ी पहली बार फाइनल खेलेंगी जिसका मतलब है कि इसबार विंबलडन को महिला वर्ग में नई चैंपियन मिलेगी.

ये भी पढ़ें: Tokyo 2020 – ओलंपिक जाने वाले भारतीय एथलीटों से बात करेंगे पीएम मोदी, खिलाड़ियों को करेंगे प्रोत्साहित