Ahoi Ashtami 2021: 28 अक्टूबर को है अहोई अष्टमी, इस शुभ मुहूर्त में करें माता पार्वती की पूजा

Ahoi Ashtami 2021

Ahoi Ashtami 2021: अहोई अष्टमी के व्रत को बड़ा सी महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि इस व्रत में महिलाएं अपने बच्चे (लड़के) की लंबी आयु और उनके अच्छे स्वास्थ्य की कामना करती हैं. करवाचौथ के चार दिनों बाद अहोई अष्टमी (Ahoi Ashtami) का त्योहार मनाया जाता है. हर साल कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को अहोई अष्टमी मनाई जाती है. इस दिन महादेव और माता पार्वती की पूजा करने से मनचाहा फल प्राप्त होता है. आइए बताते हैं कि इस पूजा का शुभ मुहूर्त क्या है और कैसे करनी है माता पार्वती की पूजा…

इस बार अहोई अष्टमी का व्रत 28 अक्टूबर गुरुवार के दिन रखा जाएगा. शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि इस व्रत को वो महिलाएं ही करती हैं जिनके लड़के होते हैं. जिन माताओं के लड़के नहीं होते हैं वो ये व्रत नहीं रखती हैं. इसके अलावा ये माना जाता है कि जिन महिलाएं को कोई बच्चा नहीं है वे संतान की प्राप्ति के लिए पूर्ण श्रद्धा से ये व्रत रखती हैं तो उनकी मनोकामना अवश्य पूरी होती है.

वहीं माना जाता है कि अहोई अष्टमी के दिन मंदिर में जाकर शिवलिंग पर दूध चढ़ाना चाहिए क्योंकि ये अति शुभ माना जाता है. इसके अलावा इस दिन तुलसी का पौधा लगाना भी काफी लाभकारी माना जाता है. इस दिन कोशिस करें कि घर के सदस्यों की गिनती के हिसाब से तुलसी के पौधे लगाएं. नहीं तो तुलसी का एक पौधा तो अपने घर पर अवश्य ही लगाएं.

ये है पूजा करने का शुभ मूहूर्त

28 अक्टूबर के दिन गुरुवार को अहोई अष्टमी दोपहर 12 बजकर 51 मिनट से शुरू होकर 29 अक्टूबर सुबह 02 बजकर 10 मिनट तक रहेगी. वहीं उदया तिथि के हिसाब से देखें तो ये त्योहार 29 अक्टूबर को मनाया जाएगा. क्योंकि अहोई माता की पूजा शाम के समय की जाती है और 29 तारीख को 02 बजकर 10 मिनट के बाद नवमी तिथि लग जाएगी, इसलिए यह व्रत 28 अक्टूबर को रखकर शाम के समय पूजा करें. 28 अक्टूबर को पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 6 बजकर 40 मिनट से रात 8 बजकर 35 मिनट तक बना रहेगा.

विध्यांचल धाम में त्रिकोण शक्ति के साथ विराजतीं हैं मां भगवती, जानिए अन्य मान्यताएं

ये भी पढ़ें: आज से शुरू हुए कार्तिक के महीना में करें ये चार काम, नहीं होंगे कभी परेशान