comscore
Wednesday, February 1, 2023
- विज्ञापन -
HomeराशिफलJoshimath Mandir: जोशीमठ स्थित नृसिंह भगवान के मंदिर से जुड़े हैं बेहद चौंकाने वाले रहस्य, भविष्य में पड़ेगा जिनका असर

Joshimath Mandir: जोशीमठ स्थित नृसिंह भगवान के मंदिर से जुड़े हैं बेहद चौंकाने वाले रहस्य, भविष्य में पड़ेगा जिनका असर

Published Date:

Joshimath Mandir: देवभूमि स्थित जोशीमठ में इन दिनों चारों तरफ तबाही का मंजर देखने को मिल रहा है. हर तरफ भू धंसाव हो रहा है और परिवारों को अपना आशियाना छोड़कर जाना पड़ रहा है. चाहे घर हो या सड़कें हर जगह दरारें देखने को मिल रही हैं. सरकार हर संभव प्रयास करके जोशीमठ के लोगों को बचाने का प्रयास कर रही है.

लेकिन क्या आप जानते हैं कि जोशीमठ का अपना विशेष धार्मिक महत्व है, जहां कई सारे ऐसे प्राचीन धार्मिक स्थल हैं, जिनके तार शंकराचार्य से लेकर अनेकों ज्ञानी महापुरुषों से जुड़े हुए हैं. इसी प्रकार जोशीमठ में भगवान नृसिंह का भी प्राचीन मंदिर स्थित है. भगवान नृसिंह को शंकराचार्य अपना इष्ट देवता मानते थे और साथ ही भगवान नृसिंह के मंदिर के दर्शन किए बिना बद्रीनाथ की यात्रा भी पूरी नहीं मानी जाती.

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, ठंड के मौसम में भगवान बद्रीनाथ इसी मंदिर की गद्दी पर आकर विराजित होते हैं. ऐसे में जोशीमठ में स्थित भगवान नृसिंह के इस मंदिर की विशेष धार्मिक महत्ता है, इतना ही नहीं इस मंदिर में कई एक चौंकाने वाले रहस्य भी मौजूद है. मंदिर से जुड़े इन रहस्यों का परिणाम आपको भविष्य में देखने को मिलेगा. जिनके बारे में ही आगे हम चर्चा करेंगे. चलिए जानते हैं….

जोशीमठ स्थित भगवान नृसिंह के मंदिर का अनोखा रहस्य

भगवान विष्णु के चौथे अवतार नृसिंह का मंदिर जोशीमठ में मौजूद है. जहां भगवान विष्णु के इस अवतार की बेहद शांत अवस्था में प्रतिमा मौजूद है. अगर आप गौर से भगवान विष्णु के नृसिंह अवतार की प्रतिमा को देखेंगे,

पाएंगे कि नृसिंह भगवान की एक बाजू बदलते समय के साथ पतली होती जा रही है. जिसको लेकर धार्मिक ग्रंथों में लिखा गया है, कि निकट भविष्य में भगवान की दाएं हाथ की भुजा पतली होती जाएगी और एक दिन उनका हाथ टूट कर गिर जाएगा,

ये भी पढ़ें:- बद्रीनाथ की मूर्ति छूने का केवल इन्हें है अधिकार, भूल से भी नहीं कर सकता कोई स्पर्श!

इसके पश्चात भविष्य में नर और नारायण नाम के पर्वत आपस में मिल जाएंगे और कोई भी व्यक्ति बद्रीनाथ के दर्शन नहीं कर पाएगा. जिस कारण जोशीमठ के तपोवन क्षेत्र में बद्रीनाथ का मंदिर स्थापित होगा, और इसके बाद ही व्यक्ति भगवान बद्रीनाथ के दर्शन कर पाएगा.

Anshika Johari
Anshika Joharihttps://hindi.thevocalnews.com/
अंशिका जौहरी The Vocal News Hindi में बतौर Sub-Editor कार्यरत हैं. उनकी रुचि विशेषकर धर्म आधारित विषयों में है, और इस विषय पर वह काफी समय से लिखती आ रही हैं. उन्होंने अपनी जर्नलिज्म की पढ़ाई इन्वर्टिस यूनिवर्सिटी, बरेली से की है.
- विज्ञापन -

ताजा खबरें

अन्य सम्बंधित खबरें

Budget 2023-24: बजट में क्या सस्ता हुआ और क्या महंगा? जानिए सबकुछ

Budget 2023-24: आज यानि 1 फरवरी 2023 को देश का...

Budget 2023-24: क्या है अमृतकाल जिसका वित्त मंत्री बजट में बार-बार कर रही हैं प्रयोग?

Budget 2023-24: वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण संसद में बजट पेश...

Budget 2023-24: कृषि क्षेत्र में होंगे ये नवाचार, किसानों को दी जाएगी डिजिटल ट्रेंनिग

Budget 2023-24: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण अपना 5वां और...

Hyundai Stargazer जल्द भारतीय मार्कट में होगी लॉन्च, तगड़े पॉवरट्रेन के साथ जानें कीमत

Hyundai की कई बेहतरीन गाड़ियां भारतीय मार्केट में मौजूद...

Mahindra Bolero Neo Limited Edition में है बेहद जबरदस्त फीचर्स, जानें कीमत

Mahindra की कई बेहतरीन गाड़ियां भारतीय मार्केट में मौजूद...

EPFO अकाउंट होल्डर के लिए खुशखबरी, सरकार लेने जा रही बड़ा फैसला

EPFO: कर्मचारी भविष्य निधि संगठन पेंशन धारकों के लिये...