जानिये उन 4 भारतीय खिलाड़ियों के बारे में जो वनडे में रहे हीरो लेकिन टेस्ट में जीरो

4 indian Cricketers
Instagram / Yuvraj Singh

क्रिकेट जगत में आपने सफलता और विफलता की कई सारी कहानियाँ सुनी और पढ़ी होगी क्योंकि यह जगत कई सारे उतार- चढ़ाव से भरा हुआ है.

लेकिन यहाँ कुछ ऐसे भी खिलाड़ी है जिन्होंने सीमित ओवरों के खेल में तो कमाल का प्रदर्शन किया है लेकिन उनका टेस्ट करियर में नही किया कमाल.

तो आइये जानते है उन्हीं 4 भारतीय खिलाड़ियों के बारे में जिनकी टेस्ट क्रिकेट में चमक फीकी रही.

युवराज सिंह

इस कड़ी में सबसे पहला नाम आता है युवराज सिंह का. युवराज बड़ी पारी खेलने के बादशाह रहे हैं. उन्होंने 2011 वर्ल्ड कप फाइनल में भी अहम भूमिका निभायी थी.

लेकिन अगर हम उनके टेस्ट करियर की बात करे तो वे भारतीय टेस्ट टीम में कभी भी अपनी जगह पक्की नही कर पाये.
उनके ओवरऑल टेस्ट स्कोर 2000 रन से भी कम है और यही उनकी 2012 में टेस्ट टीम से बाहर होने की मुख्य वजह रही.

सुरेश रैना

रैना ने अपने डेब्यू टेस्ट में ही शानदार बल्लेबाज़ी करते हुए 12 चौकों और 2 छक्कों की मदद से 120 रन बनाए थे.

डेब्यू मैच में इस शानदार प्रदर्शन के बावजूद रैना ने इसके बाद भारतीय टीम के लिए अपने पूरे टेस्ट करियर में केवल 18 ही मैच खेले.

इन मैचों में इन्होंने 26.48 की साधारण बल्लेबाज़ी औसत से 768 रन बनाए और कहीं गुमनामी में खो गए.
सुरेश रैना ने भारतीय टीम के लिए अपना आखिरी टेस्ट मैच 2015 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ सिडनी में खेला था.

आशीष नेहरा

भारत का यह पूर्व गेंदबाज अपने क्रिकेट करियर में कई बार चोटिल हुआ . लेकिन इसके बाबजूद इन्होंने टेस्ट क्रिकेट में काफी योगदान दिया .

नेहरा ने अपने वनडे करियर में 36.6 के स्ट्राइक रेट से 157 विकेट चटकाए है लेकिन टेस्ट में वह सफलता हासिल करने में विफल रहे और 78.3 के स्ट्राइक रेट के साथ मात्र 44 विकेट ही ले पाये.

इन्होंने अपना आख़िरी टेस्ट मैच पाकिस्तान के खिलाफ 2004 में खेला था जिसमें भारत टीम की जीत हुई थी.

अजय जडेजा

अजय जडेजा भारत के पूर्व ऑलराउंडर में से एक हैं.इन्होंने अपने वनडे करियर में 5000 से अधिक रन बनाये है तथा 20 विकेट भी लिये हैं.

वहीं दूसरी ओर इनका टेस्ट मैच में प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा है . गुजरात के इस खिलाड़ी ने 26.18 की औसत से केवल 576 रन ही बनाये.

जडेजा ने अपना आखिरी टेस्ट मैच 2000 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ खेला था.

यह भी पढ़े : MSD , भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल कप्तान की कहानी