आईपीएल का दूसरा चरण यूएई में होगा आयोजित, 29 मई को बीसीसीआई की बैठक में हो सकता है ऐलान

image credit: ipl/twitter

IPL 2021: बीसीसीआई ने आखिरकार आईपीएल 2021 के बचे हुए मुकाबलों के लिए तारीख और वेन्यू निर्धारित कर लिया है. टूर्नामेंट में बचे हुए मैचों को पूरा कराए जाने के लिए बोर्ड ने कमर कस ली है. अँग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की ख़बरों की माने तो ipl का दूसरा चरण यूएई में 15 सितंबर से 15 अक्टूबर के बीच 1 महीने की अवधि में आयोजित किया जाएगा. उसमें 8 डबल हेडर भी खेला जाएगा.

भारतीय टीम फ़िलहाल जून से लेकर अगस्त तक इंग्लैंड में रहेगी जहां उन्हें न्यूज़ीलैंड के खिलाफ WTC फाइनल और इंग्लैंड के खिलाफ 5 टेस्ट मैचों की सीरीज खेलनी है.

ईसीबी से भी बात किए जाने की खबर

हालांकि दूसरी खबर यह भी आई थी कि बीसीसीआई वर्तमान में ईसीबी के साथ बातचीत कर रहा है कि ईसीबी भारत की श्रृंखला के लिए दूसरे और तीसरे टेस्ट के बीच के अंतर को कम करें. लेकिन, ऐसा नहीं होने पर बोर्ड के पास शेष आईपीएल में 31 मैच खेलने के लिए 30 दिन का समय होगा.

29 मई को होगी बोर्ड की बैठक

आपको बता दें कि बीसीसीआई ने 29 मई को एक विशेष आम बैठक (एसजीएम) बुलाई है. यह उम्मीद की जा रही है कि उसी दिन ipl फेज 2 की योजनाओं पर आधिकारिक घोषणा हो सकती है. हालाँकि, बोर्ड के सामने सबसे बड़ी दुविधा मध्य अक्टूबर में ICC टी-20 विश्व कप और इंग्लैंड के खिलाफ भारत की 5 मैचों की टेस्ट सीरीज है.

2 जून को हो सकता है टी-20 विश्व कप के वेन्यू पर फैसला

दरअसल, वर्तमान कार्यक्रम के अनुसार 18 अक्टूबर से भारत में ही टी-20 विश्व कप का आयोजन होना है, लेकिन भारत में Covid-19 की स्थिति को ध्यान में रखते हुए 2 जून को यूएई में ICC की वार्षिक बैठक में प्रतियोगिता को UAE ही शिफ्ट किया जा सकता है. जिसके कारण बीसीसीआई अभी भी विश्व कप को भारत में रखने की कोशिश कर रहा है, ताकि यूएई के स्टेडियम आईपीएल मैचों के लिए उपलब्ध होंगे.

इंग्लैंड टेस्ट सीरीज भी बड़ी चुनौती

दूसरी समस्या, भारत और इंग्लैंड के बीच पांच टेस्ट मैचों के लिए 41 दिन का इंग्लैंड दौरा रहेगा. कार्यक्रम के मुताबिक दूसरे और तीसरे टेस्ट के बीच नौ दिन का अंतर है. दूसरा टेस्ट 12-16 अगस्त से और तीसरा टेस्ट 25 अगस्त से शुरू होगा. बोर्ड उस अन्तर को कम करने की कोशिश में लगा है जिससे सीरीज को पहले खत्म कराया जा सके.

भारत-इंग्लैंड के कार्यक्रम में बदलाव से हो सकता है फायदा: सूत्र

TOI (टाइम्स ऑफ़ इंडिया) अख़बार को दिए बयान में बीसीसीआई के सूत्र ने बताया कि “अगर हम उन अतिरिक्त दिनों को भारत-इंग्लैंड के कार्यक्रम से निकाल सकते हैं, तो यह विंडो में अतिरिक्त दिन दे सकता है. यदि नहीं, तो इन 30 दिनों के भीतर, भारतीय टीम और अंग्रेजी क्रिकेटरों को यूके से यूएई की यात्रा करने के लिए एक पूरा दिन अलग रखना होगा, पांच दिन बाद में नॉकआउट के लिए अलग रखना होगा.”

सूत्र ने आगे कहा, “इससे बीसीसीआई के पास 27 मैच खत्म होने के लिए 24 दिन बचेंगे. इस विंडो में चार सप्ताहांत उपलब्ध हैं, जिसका अर्थ है कि डबलहेडर के लिए शनिवार और रविवार को मिलाकर 8 दिन होंगे. जिनमें 16 मैच हो सकते हैं. इससे बोर्ड के पास 19 दिनों का समय बचेगा जिसमें 11 मैच हो सकते हैं जो कि एक सप्ताह अतिरिक्त है.”

टी-20 वर्ल्ड कप सबसे बड़ी चिंता

हालांकि, फ़िलहाल सबसे बड़ी चिंता आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप है. बोर्ड का मानना है कि अगर आईपीएल 2021 का दूसरा और विश्व कप दो अलग-अलग स्थानों पर आयोजित किया जाता है तो उसमें कोई समस्या नहीं होगी. चूंकि आईपीएल प्लेऑफ़ में केवल चार टीमें शामिल होंगी, अन्य चार टीमों के खिलाड़ी प्लेऑफ़ से पहले ICC T20 विश्व कप की तैयारी के लिए अपनी-अपनी टीमों में शामिल हो सकते हैं.

आईपीएल को माना जाए टी-20 विश्व कप का ड्रेस रिहर्सल

सूत्र ने टी-20 विश्व कप के लिए आईपीएल को एक आदर्श वार्म अप मंच माना है. ICC इस जगह को गहरी दिलचस्पी से देख रहा है और जब तक यह विश्व कप विंडो के साथ संघर्ष नहीं करता है, तब तक यह लॉजिस्टिक्स में हस्तक्षेप नहीं करेगा, ”

ICC टी-20 वर्ल्ड कप पर निर्भर है आईपीएल की योजना

BCCI की योजना भारत में होने वाले ICC T20 World Cup पर निर्भर है. चूंकि किसी भी आईसीसी टूर्नामेंट के शुरू होने से कम से कम 15 दिन पहले स्टेडियमों को आईसीसी को सौंप दिया जाता है और UAE में टी 20 के आयोजन से आईपीएल के लिए पर्याप्त समय नहीं होगा.

ये भी पढ़ें: Asia Cup 2021 चढ़ा कोरोना की भेंट, एशियन क्रिकेट काउंसिल ने किया स्थगित